न्यूयॉर्क में आज फिर पीएम मोदी और ट्रंप की मुलाकात

0
85

न्यूयॉर्क : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 74वें सत्र से इतर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिलेंगे। समझा जाता है कि दोनों नेताओं की बैठक में कारोबार क्षेत्र जुड़े कुछ अहम समझौते होंगे। हाल के दिनों में भारत और अमेरिका के बीच कारोबार में टैरिफ में वृद्धि को लेकर अड़चनें देखने को मिली हैं। ट्रंप और मोदी इन अड़चनों को दूर करने के उपायों और किसी सहमति पर पहुंचने की घोषणा कर सकते हैं। दोनों नेताओं के बीच बैठक के बाद कारोबार पर कोई दस्तावेज भी जारी हो सकता है। यह बैठक न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में स्थानीय समयानुसार दिन के 12.15 (आईएसटी रात 9.45) बजे रखी गई है।

बता दें कि व्यापार एवं कारोबार से जुड़े मुद्दों पर सहमति बनाने एवं उन्हें अंतिम रूप देने के लिए वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल एवं वाणिज्य सचिव अनूप वाधवान सोमवार को न्यूयॉर्क के एक होटल में अपने अमेरिकी समकक्षों से मिले। समझा जाता है कि दोनों देशों के बीच टैरिफ, स्टेंट्स सहित मेडिकल उपकरण एवं जीएसपी से जुड़े मुद्दों पर बयान जारी हो सकता है।

न्यूयॉर्क में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को स्थानीय समय दिन के 12.15 बजे अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप से मिलेंगे।’ कुमार ने कहा कि ट्रंप और मोदी जब फ्रांस में मिले थे तो दोनों नेता इस बात के लिए तैयार दिखे कि दोनों देशों के बीच कारोबार से जुड़े मसलों का शीघ्र समाधान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके बाद से दोनों देश कारोबारी अड़चनों के हल के लिए रास्ता निकाल रहे हैं और हमें इस बैठक से आने वाले नतीजों का इंतजार करना चाहिए।

गत रविवार को ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगले दो अथवा तीन दिनों में उनकी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच बैठकें और बातचीत होनी हैं। उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि इस बातचीत से काफी सकारात्मक नतीजे सामने आएंगे। राष्ट्रपति ट्रंप मुझे एक सख्त वार्ताकार बताते हैं। हालांकि, वह खुद ‘ऑर्ट ऑफ डील’ के एक माहिर खिलाड़ी हैं और मैं उनसे काफी कुछ सीख रहा हूं।’

अमेरिका, भारत का सबसे बड़ा कारोबार सहयोगी देश है। साल 2018 में भारत और अमेरिका के बीच करीब 142.1 अरब डॉलर का कारोबार हुआ। दोनों देशों के बीच निर्यात 58.9 अरब डॉलर और आयात 83.2 अरब डॉलर का रहा। जबकि साल 2018 में अमेरिका के साथ भारत का व्यापार घाटा 24.2 अरब डॉलर का था। अमेरिका के बाद संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) भारत का दूसरा बड़ा कारोबार सहयोगी है। भारत के साथ व्यापार में चीन तीसरे पायदान पर आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here