बहुत दिनों बाद देश में कुछ अच्छा हो रहा है – मोहन भागवत

0
338

नागपुर: पूरा देश विजयदशमी को धूमधाम से मना रहा है। इस मौके पर आरएसएस ने नागपुर में एक खास कार्यक्रम का आयोजन किया है जिसमें शामिल होने के लिए नितिन गड़करी, वी के सिंह और एचसीएल के संस्थापक शिव नाडार भी पहुंचे। इस खास मौके पर अलग अलग संगठनों के लोग भी शिरकत कर रहे हैं। नागपुर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि 2014 और 2019 के चुनावी नतीजों में बुनियादी फर्क है। उन्होंने कहा कि 2014 में जनादेश पिछली सरकार के खिलाफ था। लेकिन 2019 का नतीजा पिछले पांच वर्षों के बेहतर फैसलों का परिणाम है।

उन्होंने कहा कि देश में एक ऐसी सरकार है जिसने कठोर फैसले किए है। अनुच्छेद 370 उसका उदाहरण है। यह सरकार समाज के उन सभी वर्गों के लिए काम कर रही है। देश में जो नई आशा जगी है वो बदलाव का प्रतीक है। कुछ फैसलों से कुछ लोगों को परेशानी हुई है और वो मुमकिन है। लेकिन वो यह कहना चाहते हैं कि सरकार के फैसले उन लोगों को पसंद नहीं है जो बदलाव को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

विजयदशमी के खास मौके पर आरएसएस पथ संचलन नाम का कार्यक्रम करता है। जिसमें संघ के कार्यकर्ता पूरे उत्साह के साथ हिस्सा लेते हैं।इस मौके पर शस्त्र पूजा के साथ भारत की सांस्कृतिक विरासत की झांकी भी पेश की जाती है। संघ अपने इस कार्यक्रम के जरिए न केवल अपनी ताकत का अहसास कराता है। बल्कि ये बताने की कोशिश करता है कि एक सांस्कृतिक संगठन किस तरह से देश की एकता को कायम रखने की कोशिश में जुटा हुआ है।

इस मौके पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि हम एक वैश्विक समाज की परिकल्पना करता है जहां हर कोई आजादी के साथ अपनी बात रख सके। अगर आप संघ के इतिहास पर जाएं तो आपको मिलेगा कि यह एक ऐसा संगठन है जो जमीनी स्तर पर उन लोगों के लिए काम करता है जो वास्तव में बुनियादी सुविधाओं से वंचित रहा है। संघ की राजनीति में दिलचस्पी नहीं है। लेकिन संघ चाहता है कि सरकारों की नीतियां इस तरह की हों ताकि भारत विश्वगुरु का दर्जा फिर से प्राप्त कर सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here